यज्ञ प्रयोजन में सुसंस्कारिता का समावेश
PDF

Keywords

सुसंस्कारिता
यज्ञ-प्रयोजन
पवित्रता
Sanskar
Yagya
Sacredness

How to Cite

Kumari, B. (2022). यज्ञ प्रयोजन में सुसंस्कारिता का समावेश. Interdisciplinary Journal of Yagya Research, 5(2), 19-21. https://doi.org/10.36018/ijyr.v5i2.89

Abstract

संस्कारों की संस्कृति ही भारतीय संस्कृति का मूल है। जन्म के समय मनुष्य कि स्थिती हमेशा नर पशु जैसी ही मानी गयी है लेकिन जब वो अपने अंदर संस्कारों का समावेश करता है तथा उसकी रीति-नीति को अपनाता है तब जाकर वह मनुष्य बन पाता है और इसी पद्धति को संस्कार पद्धति का नाम दिया जाता है। किसी भी वस्तु का महत्व उतना ही है जितना उसकी सुंदरता उभारने वाली कलाकारिता और कुशलता की है। यज्ञ जैसे महान कार्य को बडे आदर पूर्वक, सावधानी, तथा पवित्रता के साथ किया जाना चाहिये। यज्ञ के प्रयोजन में भूमि शोधन संस्कार, साधनो का पवित्रिकरण, यजमान का शुद्धिकरण तथा यज्ञाग्नि संस्कार आदि सभी संस्कारो को बडे भाव के साथ करना चाहिये तब जाकर महत्वपुर्ण लाभों की प्राप्ति कराता है। गीता में आधे अधुरे और लापरवाही से किये गये यज्ञ को ‘तामस यज्ञ’ कहा गया है। इस शोध पत्र के माध्यम से यज्ञ प्रयोजन में सूक्ष्म संस्कारो की प्रविधियों पर प्रकाश डालने का प्रयास किया जा रहा है।

https://doi.org/10.36018/ijyr.v5i2.89
PDF

References

Brahmavarchas, editor. Yagna-Prayojan me Susanskarita ka Smavesh, In: Yagna ka Gyan Vigyan (Pt. Shriram Sharma Acharya Vangmay 25). Second Edition, Akhand Jyoti Sansthan Mathura; 1998.

Brahmavarchas, editor. Shodash Sanskar-Vivechan (Pt. Sriram Sharma Acharya). Second Edition Akhand Jyoti Sansthan Mathura; 1998.

Durasth Shiksha Nirdeshalay, Maharshi Dayanand Viswavidyalay ,In: Vadik Ritual Text paper-IX (Option-D), Rohtak-124 001.

Brahmavarchas, editor. Yagna-Prayojan me Susanskarita Ka Smavesh, In: Yagna Ka Gyan Vigyan (Pt. Shriram Sharma Aacharya Vangmay 25). Second Edition, Akhand Jyoti Sanstham Mathura; 1998: Page 5.74.

Geeta Press, Gorakhpur, (Srimad Daupaya Muni Vedvyas). Sri Vaman Puranam, No. 2074, 11th Reprint chapter, 14/67.

Nawal Kishor Vidyalay, Lucknow, M. L. Bhargava, B. A, at the Nawal Kishor Press, Manusmriti or Manavadharma Shastra,(Pandit Girija Prasad Dvivedi); 1917

Brahmavarchas, editor. Yagna-Prayojan me Susanskarita ka Smavesh, In: Yagna ka Gyan Vigyan (Pt. Shriram Sharma Acharya Vangmay 25). Second Edition, Akhand Jyoti Sansthan Mathura; 1998: Page 5/75.

Brahmavarchas, editor. Gayatri aur Yagya ka Annyoyasrit Sambandh (Pt. Sriram Sharma Aacharya) Second Edition, Yug Nirmar Yojana Press, Gayatri Tapobhumi, Mathura; 2013: Page 2.

Brahmavarchas, editor. Yagna-Prayojan me Susanskarita ka Smavesh, In: Yagna ka Gyan Vigyan (Pt. Shriram Sharma Acharya Vangmay 25). Second Edition, Akhand Jyoti Sansthan Mathura; 1998: Page 5/74, 75.

Creative Commons License

This work is licensed under a Creative Commons Attribution 4.0 International License.

Copyright (c) 2022 Bandana Kumari & Piyush Trivedi

Metrics

Metrics Loading ...